fbpx

Environment study pdf || Environment study book

0

Environment study pdf || Environment study book

 

Environment study pdf || Environment study book:- Environmental Studies Pdf Notes , ES Pdf Notes materials with multiple file links to download. In this post, we define environment study in Hindi. it is very important for any government job.

 

The Environmental Studies Notes Pdf — ES Notes Pdf book starts with the subjects covering NEED FOR PUBLIC AWARENESS, Natural sources and associated problems, Structure, and functions of an ecosystem, Ecosystem diversity.

 

हरित गृह प्रभाव एवं जलवायु परिवर्तन

  1. वर्ष 1997 में विश्व पर्यावरण सम्मेलन आयोजित किया गया था — क्योटो में
  2. जलवायु परिवर्तन पर संयुक्त राष्ट्र संघ का कन्वेंशन ढांचा संबंधित है — ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन में कमी से
  3. यूरोपीय संघ (EU) द्वारा विकासशील देशों के साथ वार्तालाप एवं सहयोग से वर्ष 2007 में स्थापित की गई — भूमंडलीय जलवायु परिवर्तन संधि (GCCA)
  4. यह लक्ष्याधीन विकासशील देशों को उनकी विकास नीतियों और बजटों में जलवायु परिवर्तन के एकीकरण हेतु प्रदान करती है — तकनीकी एवं वित्तीय सहायता
  5. कथन (4): भारत में जलवायु परिवर्तन से सामाजिक तनाव बढ़ रहा है।
  6. कथन (R): मौसम की चरम दशा की बारंबारता एवं तीव्रता से खाद्य सुरक्षा पर गंभीर प्रभाव पड़ेंगे। — (A) तथा (R) दोनों सही हैं तथा (R), (A) का सही कारण है।
  7. वायुमंडल के प्राकृतिक संतुलन के लिए कार्बन डाइऑक्साइड की उपयुक्त सांद्रता है — 0.03 प्रतिशत
  8. जलवायु परिवर्तन के प्रमुख कारक हैं — जीवाश्मिक ईंधन का अधिकाधिक प्रज्वलन, तैल चालित, स्वचातितों की संख्या विस्फोटन तथा अत्यधिक वनोन्मूलन
  9. वह देश जिसने ग्रीन हाउस गैस के उत्सर्जन में कमी करने हेतु वर्ष 2019 में “कार्बन टैक्‍स” लगाने की घोषणा की — सिंगापुर
  10. कार्बन डाइऑक्साइड के मानवोद्भवी उत्सर्जनों के कारण आसनन्‍्न भूमंडलीय तापन के न्यूनीकरण के संदर्भ में कार्बन प्रच्छादन हेतु संभावित स्थान हो सकते हैं — परित्यक्त और गैर-लाभकारी कोयला संस्तर, निःशेष तेल एवं गैस भंडारएवं भूमिगत गंभीर लवणीय शैल समूह
  11. झारखंड राज्य ने जलवायु केंद्र स्थापित किया है, — संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (यू.एन.डी.पी.) के सहयोग से
  12. जलवायु परिवर्तन पर झारखंड कार्ययोजना प्रकाशित हुई — वर्ष 2013 एवं 2014 में
  13. झारखंड जलवायु परिवर्तन कार्ययोजना रिपोर्ट (2014) के अनुसार सबसे संवेदनशील जिला है — सरायकेला खारसवां
  14. जलवायु परिवर्तन का कारण है — ग्रीन हाउस गैसें, ओजोन पर्त का क्षरण तथा प्रदूषण
  15. जीवाश्म ईंधन के जलने से वायुमंडल में ग्रीन हाउस गैसों में वृद्धि तथा ओजोन परत का अवक्षय प्रमुख कारण हैं — जलवायु परिवर्तन का

 




Part II

  1. ग्रीन हाउस इफेक्ट वह प्रक्रिया है — जिसमें वायुमंडलीय कार्बन डाइऑक्साइड द्वारा इन्फ्रारेड विकिरण शोषित कर लिए जाने से वायुमंडल का तापमान बढ़ता है।
  2. वर्ष 2015 में 21वां जलवायु परिवर्तन सम्मेलन हुआ था — पेरिस में
  3. एक प्राकृतिक प्रक्रिया जिसके द्वारा किसी ग्रह या उपग्रह के वातावरण में मौजूद कुछ गैसें उस ग्रह/उपग्रह के वातावरण के ताप को अपेक्षाकृत अधिक बनाने में मदद करती हैं —  ग्रीन हाउस प्रभाव
  4. ‘ग्रीन हाउस प्रभाव” है “ — गैसों के वायुमंडल में जमा होने से पृथ्वी के वातावरण का गर्म होना
  5. ग्रीन हाउस गैसों की संकल्पना की थी — जोसेफ फोरियर ने
  6. ‘क्योटो प्रोटोकॉल’ संबंधित है — जलवायु परिवर्तन से
  7. क्योटो प्रोटोकॉल एक अंतरराष्ट्रीय समझौता है, जो संबद्ध है —  UNFCCC (Unitied Nation Framework Convention on Climate Change) से
  8. सही कथन हैं — क्योटो उपसंधि वर्ष 2005 में लागू हुई। मेथेन, कॉर्बन डाइऑक्साइड की तुलना में ग्रीन हाउस गैस के रूप में अधिक हानिकारक है।
  9. किसी गैस के अणुओं की दक्षता एवं उस गैस के वायुमंडलीय जीवनकाल पर निर्भर करता है — गैस का वैश्विक तापन विभव (GWP : Global Warming Potential )
  10. कार्बन डाइऑक्साइड का वायुमंडलीय जीवनकाल परिवर्तनीय है, जबकि सभी समयावधियों के दौरान इसका वैश्विक तापन विभव 1 पाया गया है, वहीं दूसरी ओर मेथेन का 20 वर्ष के दौरान वैश्विक तापन विभव पाया गया –72
  11. पर्यावरण में ग्रीन हाउस प्रभाव में वृद्धि होती है — कार्बन डाइऑक्साइड के कारण
  12. वायुमंडल में उपस्थित वह गैसें जो तापीय अवरक्त विकिरण की रेंज के अंतर्गत विकिरणों का अवशोषण एवं उत्सर्जन करती हैं — ग्रीन हाउस गैसें
  13. ग्रीन हाउस गैस नहीं है — O2
  14. गैस समूह जो ‘ग्रीन हाउस प्रभाव” में योगदान देता है — कार्बन डाइऑक्साइड तथा मेथेन
  15. प्राकृतिक रूप से पाई जाने वाली ग्रीन हाउस गैस जो सर्वाधिक ग्रीन हाउस इफेक्ट करती है — जलवाष्प

 




PART III

  1. वैश्विक ऊष्मन के लिए उत्तरदायी नहीं है — ऑर्गन
  2. मई, 2011में विश्व बैंक के साथ हुए उत्सर्जन हास क्रय समझौते के बारे में सही है — समझौता 10 वर्ष के लिए लागू रहेगा, समझौता हिमाचल प्रदेश की एक परियोजना के लिए कार्बन क्रेडिट सुनिश्चित करने के लिए है, समझौते के अनुसार एक टन कार्बन डाईऑक्साइड एक क्रेडिट इकाई के समतुल्य होगी।
  3. एक गैस जो धरती पर जीवन के लिए हानिकारक और लाभदायक दोनों है — कार्बन डाइऑक्साइड
  4. आज कार्बन डाइऑक्साइड (CO2) के उत्सर्जन में सर्वाधिक योगदान करने वाला देश है — चीन
  5. वह देश जिसे दुनिया में “कार्बन निगेटिव देश’ के रूप में माना जाता है — भूटान
  6. वे पदार्थ जो सार्वत्रिक तापन उत्पन्न करने में योगदान करते हैं — मेथेन, कार्बन डाइऑक्साइड तथा जलवाष्प
  7. ग्रीन हाउस गैस नहीं है — हाइड्रोजन
  8. हरित गृह गैस नहीं है — नाइट्रोजन
  9. गैस जो ग्लोबल वार्मिंग के लिए ज्यादा जिम्मेदार है — कार्बन डाईऑक्साइड
  10. कार्बन डाईऑक्साइड गैस ग्लोबल वार्मिंग के लिए सबसे ज्यादा जिम्मेदार है, क्‍योंकि वायुमंडल में इसकी सांद्रता अन्य ग्रीन हाउस गैसों की तुलना में है — बहुत अधिक
  11. भूमंडलीय उष्णता (Global Warming) के परिणामस्वरूप — हिमनदी द्रवीमूत होने लगी, समय से पूर्व आम में बौर आने लगा तथा स्वास्थ्य पर कुप्रभाव पड़ा।
  12. वैश्विक ताप के असर को इंगित करते हैं — हिमानी का पिघलना, सागरीय तल में उत्थान, मौसमी दशाओं में परिवर्तन तथा ग्लोबीय तापमान में वृद्धि
  13. भूमंडलीय ऊष्मन की आशंका वायुमंडल में जिसकी बढ़ती हुई सांद्रता के कारण बढ़ रही है — कार्बन डाइऑक्साइड की
  14. एक सर्वाधिक भंगुर पारिस्थितिक तंत्र है, जो वैश्विक तापन द्वारा सबसे पहले प्रभावित होगा — आर्कटिक एवं ग्रीनलैंड हिमचादर
  15. वायु में कार्बन डाइऑक्साइड की बढ़ती हुई मात्रा से वायुमंडल का तापमान धीरे-धीरे बढ़ रहा है, क्योंकि कार्बन डाइऑक्साइड — सौर विकिरण के अवरक्त अंश को अवशोषित करती है

 




PART IV

  1. मानव की क्रिया जो जलवायु से सर्वाधिक प्रभावित होती है — कृषि
  2. मेथेन उत्सर्जन के प्राकृतिक स्रोत हैं — आर्द्रभूमि, समुद्र, हाइड्रेट्स
  3. जुगाली करने वाले पशुओं से जिस ग्रीन हाउस गैस का निस्सरण होता है, वह है — मेथेन
  4. यह एक आंदोलन है, जिसमें प्रतिभागी प्रतिवर्ष एक निश्चित दिन, एक घंटे के लिए बिजली बंद कर देते हैं तथा यह जलवायु परिवर्तन और पृथ्वी को बचाने की आवश्यकता के बारे में जागरूकता लाने वाला आंदोलन है — पृथ्वी काल
  5. जलवायु परिवर्तन और पृथ्वी को बचाने की आवश्यकता के बारे में
  6. जागरूकता लाने हेतु वर्ल्ड वाइड फंड फॉर नेचर” (WWF : World Wide Fund For nature) द्वारा आयोजित किया जाने वाला एक विश्वव्यापी आंदोलन है — पृथ्वी काल (Earth Hour)
  7. 50 से अधिक देशों द्वारा समर्थित संयुक्त राष्ट्र का मौसम परिवर्तन समझौता प्रभावी हुआ  — मार्च 21, 1994 को
  8. यह सरकार एवं व्यवसाय को नेतृत्व देने वाले व्यक्तियों के लिए ग्रीन हाउस गैस उत्सर्जन को समझने, परिमाण निर्धारित करने एवं प्रबंधन हेतु एक अंतरराष्ट्रीय लेखाकरण साधन है — ग्रीन हाउस गैस प्रोटोकॉल (Greenhouse Gas protocol)
  9. वर्ल्ड रिसोर्स इंस्टीट्यूट (WRI) तथा ‘वर्ल्ड बिजनेस काउंसिल ऑन सस्टेनेबल डेवलपमेंट” (WBCSD) द्वारा किया गया है — ग्रीन हाउस गैस प्रोटोकॉल का विकास
  10. क्योटो प्रोटोकॉल प्रभावी हुआ — वर्ष 2005 से
  11. जापान के क्‍्योटो शहर में हुए UNFCCC के तीसरे सम्मेलन में क्योटो प्रोटोकॉल को स्वीकार किया गया — 11 दिसंबर, 1997 को
  12. वर्ष 2015 में पेरिस में की UNFCCC बैठक में विकसित देशों ने वैश्विक तापन में अपनी जिम्मेदारी स्वीकार की तथा साथ-ही साथ कई देशों की सहायता से वर्ष 2020 तक जलवायु निधि जमा करने की प्रतिबद्धता जताई — 100 अरब डॉलर
  13. प्रमुख ग्रीनहाउस गैस मेथेन के स्रोत हैं — धान के खेत, कोयले की खान, पालतू पशु, आर्द्रभूमि

 




Related Blogs From Environment


Download PDF

Environment Notes in Hindi PDF, Paryavaran Adhyayan Notes Hindi, Environment Studies Notes in PDF, Environment Studies Notes Environmental Studies: Environment Studies Handwritten Notes PDF, Environment Studies Handwritten Class Notes PDF, Environment Studies.

This blog is full of environmental studies topic notes and objective questions for all competitive exams like – UGC NET, SET, UPSC, RPSC RAS, Bank, Railway, SSC CGL, SSC 10 + 2, SSC CPO SI, SSC GD, Second Grade Teacher, REET / RTET, CTET, DSSSB, KVS, NVS, HTET, UPTET, 1st Grade Teacher, Patwar, Police, Patwar, Gramsevak, Police and all other examinations are very useful and important. Students, through this post today, will provide you an important PDF of EVS Environment Studies Notes. You can download these PDFs for free. so read this post very carefully.

Tags :- Environment Notes in Hindi PDF, Paryavaran Adhyayan Notes Hindi, Environment Studies Notes in PDF, Environment Studies Notes Environmental Studies, Environment study pdf , Environment study book

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
error: Content is protected !!
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x