Namrata jain IAS प्रेरणा की कहानी

नम्रता जैन को दंतेवाड़ा के आईएएस और आईपीएस अफसर ने ट्रेन किया है, जिसके चलते वह आज यह मुकाम हासिल कर पाई हैं।

UPSC में इस बार भी छत्तीसगढ़ ने कीर्तिमान रच दिया है। UPSC के टॉप-15 में छत्तीसगढ़ के दो होनहारों ने कामयाबी का डंका बजाया है। नम्रता जैन ने देश भर में 12वां स्थान हासिल किया है, जबकि वर्णित नेगी ने ऑल ओवर 13वीं रैकिंग हासिल की है। UPSC में 12वां रैंक हासिल करने पर दंतेवाड़ा की रहने वाली नम्रता जैन ने तीसरी बार आईएएस की परीक्षा दी है, जिसमें उन्होंने सफलता हासिल की।

आईएएस के सफर के बारे में बात करते हुए नम्रता ने बताया कि ‘जब वह 10 साल की थीं, तब उनके होमटाउन दंतेवाड़ा में कुछ नक्सलियों ने पुलिस चौकी पर हमला कर दिया था, जिससे 11 पुलिसवाले शहीद हो गए थे। तभी उन्होंने ठान लिया था कि वह बड़ी होकर अपने शहर के लिए काम करेंगी।’

बता दें नम्रता जैन को दंतेवाड़ा के आईएएस और आईपीएस अफसर ने ट्रेन किया है, जिसके चलते वह आज यह मुकाम हासिल कर पाई हैं। अपने सफर के बारे में बताते हुए नम्रता ने कहा कि ‘मैं दंतेवाड़ा से हूं, ऐसे में हमेशा ख्याल आता था कि मुंबई और दिल्ली जैसे बड़े शहरों में पढ़ने वालों से कैसे मुकाबला करूंगी, लेकिन परिवार के सपोर्ट हमेशा रहा। 2016 में 99वीं रैंक मिलने पर भी आईएएस नहीं बन सकी, तब मैंने तय किया की इस अब टॉप-10 में आकर रहूंगी। सिंगल डिजिट नहीं ला पाई, लेकिन आईएएस बनने का सपना पूरा हो ही गया।’

इंजीनियरिंग के बाद सिविल सेवा परीक्षाः बचपन से पढ़ाई की शौकीन नम्रता को हाई स्कूल की पढ़ाई के लिए दुर्ग जाना पड़ा था। नम्रता ने हाई स्कूल की पढ़ाई पूरी की और आगे पढ़ाई के लिए भिलाई चली गई। प्राप्त जानकारी के मुताबिक नम्रता ने इलेक्ट्रॉनिक्स में इंजीनियरिंग करने के बाद दिल्ली से सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी की। मीडिया से बात करते हुए उन्होंने कहा, ‘मैं इस परीक्षा में पास होने पर बहुत खुश हूं। यह मेरे और मेरे परिवार के लिए सपने के साकार होने जैसा है।’

 

the data-matched-content-ui-type="image_card_sidebyside">

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *