fbpx

वित्त मंत्रालय के तहत योजनाएं

0

वित्त मंत्रालय के तहत योजना

प्रधानमंत्री वाया वंदना योजना (पी.एम.वी.वी.वाई)

« 60 वर्ष और उससे अधिक की आयु के वरिष्ठ नागरिकों के लिए

« यह योजना 0 वर्ष के लिए मासिक भुगतान पर 8% प्रतिवर्ष की आश्वासित रिटर्न प्रदान करती है ( 8.30% प्रतिवर्ष प्रभावी के समकक्ष)।

« इस योजना को एल.आई.सी द्वारा संचालित किया जाएगा।

 

जन सुरक्षा योजना

 

(1) प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना

« पी.एम.जे.जे.बी.वाई एक वर्षीय जीवन बीमा योजना है।

« वर्ष-दर-वर्ष नवीकरणीय, किसी भी कारण से मृत्यु के लिए कवरेज की पेशकश करना और 8 से 50 वर्ष के आयु समूह के ल्रोगों के लिए उपलब्ध है।

« प्रति सदस्य प्रतिवर्ष 330 / – रूपये का प्रीमियम

« 2 लाख रुपये का जीवन कवर

2) प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना

« प्रति वर्ष 2 रुपये का प्रीमियम

« आयुसमूह 8 से 70 साल

« इसके तहत, आकस्मिक मृत्यु और स्थायी कुल विकलांगता हेतु जोखिम कवरेज 2 लाख रुपये और स्थायी आंशिक विकलांगता के लिए लाख होगा।

(3) अटल पेंशन योजना

« इसका शक्ारंभ वर्ष 205 में किया गया था

« असंगठित क्षेत्र में सभी नागरिकों पर केंद्रित

« आयु- न्यूनतम 8 वर्ष, अधिकतम 40 वर्ष

« केंद्र सरकार ग्राहक के योगदान का 50% या 000 रुपये प्रतिवर्ष, जो भी कम हो का सह-योगदान भी करेगा।

« सब्सक्राइबर को उनके योगदान के आधार पर 60 वर्ष की आयु में निश्चित पेंशन प्राप्त होगी।

प्रधानमंत्री मुद्रा योजना (पी.एम.एम.वाई)

« इसका शुभारंभ 2015 में किया गया था

« इस योजना में, मुद्रा (माइक्रो यूनिट्स डेवत्रपमेंट एंड रिफाइनेंस एजेंसी) बैंक सभी एम.एफ.आई (माइक्रो फाइनेंशियत्र इंस्टीट्यूट) को फंड करने के लिए खोल्रा गया है जो एम.एस.एम.ई को ऋण प्रदान करता है।

« ऋण प्राथमिकता अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति उद्यमों को दी जाएगी।

«मुद्रा बैंक ने तीन ऋण उपकरणों का शुभारंभ किया है:

 

1) शिशु- 50,000 रुपये तक ऋण (2) किशोर- 50,000 रुपये से ऊपर और 5 लाख रुपये तक ऋण।

(3) तरुण- 5 लाख रुपये से ऊपर और 0 लाख रुपये तक के ऋण

 

वरिष्ठ पेंशन बीमा योजना

 

« 60 वर्ष से ऊपर या उसके समकक्ष व्यक्तियों को सामाजिक सुरक्षा प्रदान करना।

 

«  एल.आई.सी के माध्यम से कार्यान्वित।

 

« यह योजना दस वर्ष के लिए प्रतिवर्ष 8% की रिटर्न की दर के आधार पर एक आश्वासित पेंशन प्रदान करेगी।

 

 

1 1 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
error: Content is protected !!
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x