कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय के अंतर्गत योजनाएं

कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय के अंतर्गत योजनाएं
[sc name="ncert-post"]

कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय के अंतर्गत योजनाएं

 

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना (पी.एम.एफ.बी.वाई)

« इसे वर्ष 206 में त्रॉन्‍्च किया गया है और इसने दो फसल बीमा योजनाओं को राष्ट्रीय कृषि बीमा योजना

(एन.ए.आई.एस) और संशोधित एन.ए.आई.एस की जगह ली है।

« प्राकृतिक आपदाओं, कीटों और बीमारियों के परिणामस्वरूप किसी भी अधिसूचित फसल की विफलता के मामले में किसानों को बीमा कवरेज और वित्तीय सहायता प्रदान करना।

« किसानों द्वारा भुगतान किया गया प्रीमियम इस प्रकार है-

रबी फसल- 1.5 प्रतिशत

खरीफ फसल- 2 प्रतिशत

वार्षिक वाणिज्यिक और बागवानी फसलें – 5 प्रतिशत

प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना

« सिंचाई प्रणाली में निवेश को आकर्षित करना और सिंचाई में पानी के उपयोग में दक्षता ल्राना।

« नोडल एजेंसी- राज्य कृषि विभाग (क्योंकि कृषि संविधान की अनुसूची शा में एक राज्य विषय

है।)

« टेगलाइन- प्रति बूंद अधिक पैदावार (Pre drop more crop)

योजना (पी.एम.एफ.बी.वाई)

 

« इसे वर्ष 206 में त्रॉन्‍्च किया गया है और इसने दो फसल बीमा योजनाओं को राष्ट्रीय कृषि बीमा योजना (एन.ए.आई.एस) और संशोधित एन.ए.आई.एस की जगह ली है।

 

« प्राकृतिक आपदाओं, कीटों और बीमारियों के परिणामस्वरूप किसी भी अधिसूचित फसल की विफलता के मामले में किसानों को बीमा कवरेज और वित्तीय सहायता प्रदान करना।

 

« किसानों द्वारा भुगतान किया गया प्रीमियम इस प्रकार है-

 

रबी फसल- 1.5 प्रतिशत

 

खरीफ फसल- 2 प्रतिशत

 

वार्षिक वाणिज्यिक और बागवानी फसलें – 5 प्रतिशत

 

प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना

 

« सिंचाई प्रणाली में निवेश को आकर्षित करना और सिंचाई में पानी के उपयोग में दक्षता ल्राना।

 

« नोडल एजेंसी- राज्य कृषि विभाग (क्योंकि कृषि संविधान की अनुसूची शा में एक राज्य विषय

है।)

 

« टेगलाइन- प्रति बूंद अधिक पैदावार (Pre drop more crop)

 

मृदा स्वास्थ्य कार्ड योजना-

 

« इसे फरवरी 205 को राजस्थान के सूरतगढ़ में प्रधानमंत्री द्वारा लॉन्च किया गया है।

 

« इस योजना में, सरकार किसानों को मृदा कार्ड जारी करती है जो किसानों को उत्पादकता में सुधार करने में सहायता करने हेतु व्यक्तिगत खेतों के लिए आवश्यक पोषक तत्वों और उर्वरकों की फसल-वार जानकारी प्रदान करती है।

 

ई-नैम (इलेक्ट्रॉनिक राष्ट्रीय कृषि बाजार)

 

« राष्ट्रीय कृषि बाजार व्यापार वस्तुओं के लिए एक सामान्य मंच के साथ किसानों, व्यापारियों, खरीदारों, निर्यातकों और प्रोसेसर की सुविधा के लिए एक संपूर्ण भारत इलेक्ट्रॉनिक व्यापार पोर्टल है।

 

« कृषि उत्पाद बाजार समिति (ए.पी.एम.सी) राज्य सरकारों द्वारा स्थापित एक विपणन बोर्ड है जो किसानों को अधिकृत मंडियों (बाजारों) में केवल सरकार द्वारा अनुमोदित मध्यस्थों को अपने उत्पाद बेचने के लिए मजबूर करता है।

 

राष्ट्रीय गोकुल मिशन

 

« स्वदेशी नस्‍्तों का संरक्षण और उनकी आनुवांशिक प्रकृति में सुधार हेतु उनका विकास, दूध उत्पादकता में वृद्धि और रोग मुक्त उच्च आनुवांशिक नस्ल का वितरण।

 

परंपरागत कृषि विकास योजना

« इसे वर्ष 206 में लॉन्च किया गया है।

« इसका उद्देश्य कार्बनिक खेती और मृदा गुणवत्ता में सुधार करना है।

« इसे पारंपरिक खेती सुधार कार्यक्रम के रूप में भी जाना जाता है।

नोट – सिक्किम लगभग 75,000 हेक्टेयर कृषि भ्रूमि पर कार्बनिक प्रथाओं को लागू करने वाला भारत का पहला पूर्ण कार्बनिक राज्य बन गया हैं।

 

ई-पशुहाट पोर्टल

 

« किसानों और गोजातीय पशुओं के प्रजनकों को जोड़ना।

« इसे भारत की श्वेत क्रांति के जनक वर्गीस कुरियन की जयंती के अवसर पर 26 नवंबर, 206

को लॉन्च किया गया है।

 

बागवानी के एकीकृत विकास के लिए मिशन 

 

इसे 12वीं पंचवर्षीय योजना के दौरान वर्ष 2014-15 में लॉन्च किया गया है।

« यह मिशन निम्नलिखित योजनाओं को एकीकृत करता है-

() राष्ट्रीय बागवानी मिशन

(2) उत्तर पूर्व एवं हिमात्रयी राज्यों के लिए बागवानी मिशन

(3) राष्ट्रीय बांस मिशन

(4) राष्ट्रीय बागवानी बोर्ड

(5) नारियल विकास बोर्ड

(6) केन्द्रीय बागवानी संस्थान, नागालैंड

 

पंडित दीनदयाल उपाध्याय उन्‍नत कृषि शिक्षा योजना

 

« इसे वर्ष 206 में लॉन्च किया गया है।

« इसका उठदेश्य कृषि शिक्षा को बढ़ावा देना है।

 

राष्ट्रीय कृषि विकास योजना

 

 

« इसे वीं पंचवर्षीय योजना के दौरान कृषि क्षेत्र में 4 प्रतिशत वार्षिक वृद्धि हासिल करने के लिए

वर्ष 2007 में लॉन्च किया गया है।

« राज्यों को कृषि में उनके निवेश को बढ़ाने के लिए प्रोत्साहित करना।

 

मूल्य स्थिरीकरण निधि –

 

« इसे प्याज, आन और दालों जैसी महत्वपूर्ण कृषि-बागवानी वस्तुओं की मूल्य अस्थिरता को

नियंत्रित करने में सहायता करने हेतु वर्ष 204-5 में लॉन्च किया गया था।

« निधि एक रणनीतिक बफर प्रदान करती है।

 

मिशन फिंगरलिंग

« ब्लू क्रांति के तहत मछली उत्पादन लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए भारत में मत्स्यपालन क्षैत्र

का विकास और प्रबंधन।

 

« इसमें देश में मछली बीज बुनियादी ढांचे को मजबूत करने के लिए उनके संभावित और अन्य

प्रासंगिक कारकों के आधार पर 20 राज्यों को पहचाना गया है।

 

राष्ट्रीय जल संसाधन प्रबंधन परियोजना’ या ‘नीरंचल’

 

« इस परियोजना का छक्ष्य प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना (पी.एम.एस.के.वाई) के वाटरशेड घटक

को वर्षा जत्र के सतह के प्रवाह को कम करने, भूजल स्तर में वृद्धि और बारिश से करे क्षेत्रों में

बेहतर पानी की उपलब्धता को पूरा करना है।

 

« इस परियोजना को विश्व बैंक द्वारा सहायता दी जाती है।

 

मेरा गाँव मेरा गौरव

 

« इसमें आई.सी.ए.आर और कृषि विश्वविद्यात्रयों के वैज्ञानिक कृषि उत्पादकता और उत्पादन

में वृद्धि के लिए किसानों को सलाह और परामर्श प्रदान करने हेतु संस्थानों के आस-पास के

गांवों की पहचान करेंगे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *